LYRIC

Here you will find the lyrics of the popular song – “Chadhta Sooraj Dheere Dheere” from the Movie / Album – “Indu Sarkar”. The Music Director is “Anu Malik”. The song / soundtrack has been composed by the famous lyricist “” and was released on “28 July 2017” in the beautiful voice of “Anu Malik, Mujtaba Aziz Naza”. The music video of the song features some amazing and talented actor / actress “Kirti Kulhari, Neil Nitin Mukesh, Supriya Vinod, Anupam Kher, Tota Roy Chowdhury”. It was released under the music label of “Saregama Music”.

Chadhta Sooraj Dheere Dheere

Chadhta Sooraj Dheere Dheere Lyrics in English :

Hue naam oye benishan kaise kaise

Zameen kha gayi naujawan kaise kaise

🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵

Aaj jawani par itaranae wale kal pacthtayega

Aaj jawani par itaranae wale kal pacthtayega

Chadhta suraj dheere dheere

Dhalta hain dhal jayega

Chadhta suraj dheere dheere

Dhalta hain dhal jayega

Chadhta suraj dheere dheere

Dhalta hain dhal jayega

🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵

Tu yahan musafir hain yeh sarah fani hain

Chaar roz ki mehmaan teri zindgani hain

Teri zindgani hain teri zindgani hain

Jan zameen jar zevar kutch na saath jayega

Khali haath aaya hain khali haath jayega

Khali haath jayega khali haath jayega

Jaan kar bhi anjana ban raha hain deewane

Apni umrefani par tan raha hain deewane

Tan raha hain deewane tan raha hain deewane

Is kadar tu khoya hain is jahan ke mele

Tu khuda ko bhula hain phas ke is jhamaele main

Aaj tak yeh dekha hain paanewala khota hain

Jindagi ko jo samjha jindagi pe rota hain

Jindagi pe rota hain jindagi pe rota hain

Mitne wali duniya ka aaitbaar karta hain

Kya samajh ke tu aakhir isse pyar karta hain

Isse pyar karta hain isse pyar karta hain

Apne apne fikro main

Jo bhi hain woh uljha hain

Jo bhi hain woh uljha hain

Jindagi haqeeqat main kya hain kaun samjha hain

Kya hain kaun samjha hain

Aaj samajhle….

Aaj samajhle kal yeh mauka haath na tere aayega

O gaflat ki neend main sone wale dhoka khayega

Chadhta suraj dheere dheere dhalta hain dhal jayega

Chadhta suraj dheere dheere dhalta hain dhal jayega

Dhal jayega dhal jayega

Dhal jayega dhal jayega

🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵

Maut ne zamane ko yeh sama dikh dala

Kaise kaise us gum ko khak main mila dala

Khak main mila dala khak main mila dala

Yaad rakh sikander ke hausle to aali the

Jab gaya tha duniya se dono haath khali the

Dono haath khali the dono haath khali the

Apna woh halaku hain aur na uske saathi hain

Jung ko chu woh porus hain aur na uske haathi hain

Aur na uske haathi hain aur na uske haathi hain

Kal jo tanke chalte the apni shano shaukat par

Shamma tak nahi jalti aaj unki purbat par

Aaj unki purbat par aaj unki purbat par

Apna ho ya alla ho sabko laut jaana hain

Sabko laut jaana hain sabko laut jaana hain

Muflifoh tavundar ka kabra hi thikana hain

Kabra hi thikana hain kabra hi thikana hain

Jaisi karni….

Jaisi karni waisi bharni aaj kiya kal payega

Sir ko uthakar chalne wale ek din thokar payega

Chadhta suraj dheere dheere dhalta hain dhal jayega

Chadhta suraj dheere dheere dhalta hain dhal jayega

Dhal jayega dhal jayega

Dhal jayega dhal jayega….

🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵

Maut sabko aani hain kaun isse chuta hain

Tu fana nahi hoga yeh khayal jhutha hain

Yeh khayal jhutha hain yeh khayal jhutha hain

Saans tutate hi sab rishtey tut jaayenge

Baap.. Maa.. Behan.. Biwi.. Bachhe choot jayenge

Bachhe choot jayenge bachhe choot jayenge

Tere jitne hain bhai waqt ka chalan denge

Chin kar teri daulat do hi gaj kafan denge

Do hi gaj kafan denge do hi gaj kafan denge

Jinko apna kehta hain kab yeh tere saathi hain

Kabra hain teri mazil aur yeh baraati hain

Laake kabra main tujhko urda pak dalenge

Apne haathon se tere muh pe khak dalenge

Muh pe khak dalenge muh pe khak dalenge

Teri saari ulfat ko khak main mila denge

Tere chahne wale kal tujhe bhula denge

Kal tujhe bhula denge kal tujhe bhula denge

Isliye yeh kehta hu khub soch le dil main

Kyon phasaye baitha hain jaan apni mushkil main

Jaan apni mushkil main jaan apni mushkil main

Kar gunaho se tauba aake baat sambhal jaaye

Aake baat sambhal jaaye aake baat sambhal jaaye

Dum ka kya bharosa hain jaane kab nikal jaaye

Jaane kab nikal jaaye jaane kab nikal jaaye

Muthhi bandh ke aanewale….

Muthhi bandh ke aanewale haath pasare jayega

Dhan daulat jaagir se tune kya paya kya payega

Chadhta suraj dheere dheere dhalta hain dhal jayega

Chadhta suraj dheere dheere dhalta hain dhal jayega

Chadhta suraj dheere dheere dhalta hain dhal jayega

🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵

Chadhta suraj dheere dheere dhalta hain dhal jayega

Chadhta suraj dheere dheere dhalta hain dhal jayega

Chadhta suraj dheere dheere dhalta hain dhal jayega….

=================================================

Disclaimer: Videos and others Content on the channel consist of copyright of the owner, no one is allowed to do a copy, editing or any kind of changes in original videos, or not allowed to re-upload without permission on any social media platform.

Translated Version

यहां आपको फिल्म/एल्बम - "इंदु सरकार" के लोकप्रिय गीत - "चढ़ता सूरज धीरे धीरे" के बोल मिलेंगे। संगीत निर्देशक "अनु मलिक" हैं। गीत / साउंडट्रैक प्रसिद्ध गीतकार "" द्वारा रचित है और "अनु मलिक, मुज्तबा अजीज नाज़ा" की खूबसूरत आवाज़ में "28 जुलाई 2017" को रिलीज़ किया गया था। गीत के संगीत वीडियो में कुछ अद्भुत और प्रतिभाशाली अभिनेता / अभिनेत्री "कीर्ति कुल्हारी, नील नितिन मुकेश, सुप्रिया विनोद, अनुपम खेर, तोता रॉय चौधरी" हैं। इसे "सारेगामा म्यूजिक" के म्यूजिक लेबल के तहत रिलीज किया गया था।


Chadhta Sooraj Dheere Dheere



Chadhta Sooraj Dheere Dheere Lyrics in Hindi :


हुए नाम ोये बेनिशाँ कैसे कैसे


ज़मीं खा गयी नौजवान कैसे कैसे


🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵


आज जवानी पर इतराने वाले कल पैठताएगा


आज जवानी पर इतराने वाले कल पैठताएगा


चढ़ता सूरज धीरे धीरे


ढालते हैं ढल जायेगा


चढ़ता सूरज धीरे धीरे


ढालते हैं ढल जायेगा


चढ़ता सूरज धीरे धीरे


ढालते हैं ढल जायेगा


🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵


तू यहाँ मुसाफिर हैं यह सारः फनी हैं


चार रोज़ की मेहमान तेरी जिंदगानी हैं


तेरी जिंदगानी हैं तेरी जिंदगानी हैं


जन ज़मीं जार ज़ेवर कुत्च न साथ जायेगा


खाली हाथ आया हैं खली हाथ जायेगा


खली हाथ जायेगा खली हाथ जायेगा


जान कर भी अनजान बन रहा हैं दीवाने


अपनी उम्रेफानी पर तन रहा हैं दीवाने


तन रहा हैं दीवाने तन रहा हैं दीवाने


इस कदर तू खोया हैं इस जहाँ के मेले


तू खुदा को भुला हैं फास के इस झमेले में


आज तक यह देखा हैं पानेवाला खोते हैं


जिंदगी को जो समझे जिंदगी पे रोते हैं


जिंदगी पे रोते हैं जिंदगी पे रोते हैं


मिटने वाली दुनिया का आइतबार करता हैं


क्या समझ के तू आखिर इससे प्यार करता हैं


इससे प्यार करता हैं इससे प्यार करता हैं


अपने अपने फ़िक्रों मैं


जो भी हैं वह उलझा हैं


जो भी हैं वह उलझा हैं


जिंदगी हकीकत मैं क्या हैं कौन समझे हैं


क्या हैं कौन समझे हैं


आज समझले….


आज समझले कल यह मौका हाथ न तेरे आएगा


ो गफलत की नींद में सोने वाले धोखा खाएगा


चढ़ता सूरज धीरे धीरे ढलता है ढल जायेगा


चढ़ता सूरज धीरे धीरे ढलता है ढल जायेगा


ढल जायेगा ढल जायेगा


ढल जायेगा ढल जायेगा


🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵


मौत ने ज़माने को यह समां दीख डाला


कैसे कैसे उस गम को खाक में मिला डाला


खाक में मिला डाला खाक में मिला डाला


याद रख सिकंदर के हौसले तो ाली थे


जब गया था दुनिया से दोनों हाथ खाली थे


दोनों हाथ खाली थे दोनों हाथ खाली थे


अपना वह हलाकू हैं और न उसके साथी हैं


जुंग को छु वह पोरस हैं और न उसके हाथी हैं


और न उसके हाथी हैं और न उसके हाथी हैं


कल जो टाँके चलते थे अपनी शानो शौकत पर


शम्मा तक नहीं जलती आज उनकी पुर्बत पर


आज उनकी पुर्बत पर आज उनकी पुर्बत पर


अपना हो या अल्ला हो सबको लौट जाना हैं


सबको लौट जाना हैं सबको लौट जाना हैं


मुफलीफोह त्वउंदर का क़ब्र ही ठिकाना हैं


क़ब्र ही ठिकाना हैं क़ब्र ही ठिकाना हैं


जैसी करनी….


जैसी करनी वैसी भरनी आज किया कल पायेगा


सिर को उठाकर चलने वाले एक दिन ठोकर पायेगा


चढ़ता सूरज धीरे धीरे ढलता है ढल जायेगा


चढ़ता सूरज धीरे धीरे ढलता है ढल जायेगा


ढल जायेगा ढल जायेगा


ढल जायेगा ढल जायेगा….


🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵


मौत सबको आनी हैं कौन इसे छूते हैं


तू फ़ना नहीं होगा यह ख्याल झूठे हैं


यह ख्याल झूठा हैं यह ख्याल झूठे हैं


साँस टूटते ही सब रिश्ते टूट जाएंगे


बाप.. माँ.. बहिन.. बीवी.. बच्चे छूट जायेंगे


बच्चे छूट जायेंगे बच्चे छूट जायेंगे


तेरे जितने हैं भाई वक़्त का चलन देंगे


छीन कर तेरी दौलत दो ही गज कफ़न देंगे


दो ही गज कफ़न देंगे दो ही गज कफ़न देंगे


जिनको अपना कहते हैं कब यह तेरे साथी हैं


कब्र हैं तेरी मज़िल और यह बाराती हैं


लाके कब्र मैं तुझको ुर्दा पाक डालेंगे


अपने हाथों से तेरे मुह पे ख़ाक डालेंगे


मुँह पे ख़ाक डालेंगे मुँह पे ख़ाक डालेंगे


तेरी सारी उल्फ़त को खाक में मिला देंगे


तेरे चाहने वाले कल तुझे भुला देंगे


कल तुझे भुला देंगे कल तुझे भुला देंगे


इसलिए यह कहता हु खूब सोच ले दिल मैं


क्यों फसाये बैठे हैं जान अपनी मुश्किल में


जान अपनी मुश्किल मैं जान अपनी मुश्किल में


कर गुनाहों से तौबा आके बात संभल जाए


आके बात संभल जाए आके बात संभल जाए


दम का क्या भरोसा हैं जाने कब निकल जाए


जाने कब निकल जाए जाने कब निकल जाए


मुट्ठी बांध के आनेवाले….


मुट्ठी बांध के ानेवाले हाथ पसारे जायेगा


धन दौलत जागिर से तूने क्या पाया क्या पायेगा


चढ़ता सूरज धीरे धीरे ढलता है ढल जायेगा


चढ़ता सूरज धीरे धीरे ढलता है ढल जायेगा


चढ़ता सूरज धीरे धीरे ढलता है ढल जायेगा


🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵


चढ़ता सूरज धीरे धीरे ढलता है ढल जायेगा


चढ़ता सूरज धीरे धीरे ढलता है ढल जायेगा


चढ़ता सूरज धीरे धीरे ढलता है ढल जायेगा….


=================================================


अस्वीकरण: वीडियो और अन्य चैनल की सामग्री में मालिक का कॉपीराइट होता है, किसी को भी मूल वीडियो में कॉपी, संपादन या किसी भी तरह के बदलाव करने की अनुमति नहीं है, या किसी भी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर बिना अनुमति के फिर से अपलोड करने की अनुमति नहीं है।



Song Credits & Copyright Details: 


गाना / Title :Chadhta Sooraj Dheere Dheere


चित्रपट / Film / Album :Indu Sarkar 


संगीतकार / Music Director :Anu Malik


गीतकार / Lyricist : 


गायक / Singer(s) :Anu Malik, Mujtaba Aziz Naza


जारी तिथि / Released Date :28 July 2017


कलाकार  / Cast : Kirti Kulhari, Neil Nitin Mukesh, Supriya Vinod, Anupam Kher, Tota Roy Chowdhury


लेबल / Label :Saregama Music


निदेशक / Director :Madhur Bhandarkar


निर्माता / Producer :Bharat Shah, Madhur Bhandarkar


Added by

Author2

SHARE

Your email address will not be published. Required fields are marked *

VIDEO