LYRIC

Here you will find the lyrics of the popular song – “Tum To Thehre Pardesi Sath Kya Nibhaoge” from the Movie / Album – “Tum To Thehre Pardesi Sath Kya Nibhaoge”. The Music Director is “Mohd. Shafi Niyazi”. The song / soundtrack has been composed by the famous lyricist “Zaheer Aalam” and was released on “1 January 1997” in the beautiful voice of “Altaf Raja”. The music video of the song features some amazing and talented actor / actress “Altaf Raja”. It was released under the music label of “Venus”.

Lyrics In English

Tum to thehre pardesi
Tum to thehre pardesi saath kya nibaoge
Tum to thehre pardesi saath kya nibaoge
Tum to thehre pardesi saath kya nibaoge

🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵

Tum to thehre pardesi saath kya nibaoge
Tum to thehre pardesi saath kya nibaoge
Tum to thehre pardesi saath kya nibaoge
Subah pehli
Subah pehli
Subah pehli gaadi se ghar ko laut jaoge
Subah pehli gaadi se ghar ko laut jaoge
Tum to thehre pardesi saath kya nibaoge

🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵

Jab tumhein akele mein meri yaad aayegi
Jab tumhein akele mein meri yaad aayegi

🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵

Khichein khichein hue rehaten ho kyon
Khichein khichein hue rehaten ho dhyaan kiska hai
Zara batao toh yeh imtihaan kiska hain
Hamein bhula do magar yeh to yaad hi hoga
Hamein bhula do magar yeh to yaad hi hoga
Nayi sadak pe purana makaan kiska hain

🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵

Jab tumhen akele mein meri yaad aayegi
Jab tumhen akele mein meri yaad aayegi
Aasuon ki
Aasuon ki
Aasuon ki baarish mein tum bhi bheeg jaoge
Aasuon ki baarish mein tum bhi bheeg jaoge
Tum to thehre pardesi saath kya nibaoge

🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵

Gam ke dhup mein dil ki hasratein na jal jaaye
Gam ke dhup mein dil ki hasratein na jal jaaye

🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵

Tujhko aye tujhko dekhenge sitaaren toh ziya maangenge
Tujhko dekhenge sitaaren toh ziya maangenge
Aur pyaase teri julfo se ghata maangenge
Apne kaandhe se duppata na sarakne dena
Warna budhe bhi jawani ki dua maangenge
Imaan se

🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵

Gam ke dhup mein dil ki hasratein na jal jaaye
Gam ke dhup mein dil ki hasratein na jal jaaye
Keshuwo ke
Keshuwo ke
Keshuwo ke ke saaye mein kab hamein sulaoge
Keshuwo ke ke saaye mein kab hamein sulaoge
Tum to thehre pardesi saath kya nibaoge

🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵

Mujhko katl kar daalo shauk se magar socho
Mujhko katl kar daalo shauk se magar socho

🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵

Is shehar-e-naa-muraad ki izzat karega kaun
Are hum hi chale gaye toh mohabbat karega kaun
Is ghar ki dekhbhaal ko viraaniyan to hon
Is ghar ki dekhbhaal ko viraaniyan to hon
Jaale hata diye toh hifazat karega kaun

🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵

Mujhko katl kar daalo shauk se magar socho
Mujhko katl kar daalo shauk se magar socho
Mere baad
Mere baad
Mere baad tum kispar yeh bijliya giraoge
Mere baad tum kispar yeh bijliya giraoge
Tum to thehre pardesi saath kya nibaoge

🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵

Yun toh zindagi apni mai-kade mein guzari hai
Yun toh zindagi apni mai-kade mein guzari hai

🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵

Ashko mein husn-o-rang samota raha hu main
Ashko mein husn-o-rang samota raha hu main
Aanchal kisi ka thaam ke rota raha hu main
Nikhara hain jaake ab kahi chehra shaoor ka
Nikhara hain jaake ab kahi chehra shaoor ka
Barso ise sharaab se dhota raha hu main

🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵

Yun toh zindagi apni mai-kade mein guzri hain

Behki hui bahaar ne peena sikha diya
Badmast barg-o-baar ne peena sikha diya
Peeta hu is garaj se ke jeena hain chaar din
Peeta hu is garaj se ke jeena hain chaar din
Marne ke intezaar ne peena sikha diya

🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵

Yun toh zindagi apni mai-kade mein gujri hain
Yun toh zindagi apni maikade mein gujri hain
In nashili
In nashili
In nashili aankhon se kab hamein pilaoge
In nashili aankhon se kab hamein pilaoge
Tum toh thehre pardesi saath kya nibahaoge

🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵

Kya karoge tum aakhir kabr par meri aakar
Kya karoge tum aakhir kabr par meri aakar

🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵

Kya karoge tum aakhir kabr par meri aakar
Kyon ke jab tumse itefaakan jab tumse itefaakan
Meri nazar mili thi ab yaad aa raha hain
Shayad woh janvary thi

🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵

Tum yun mili dubara phir maah-e-farvary mein
Jaise ke hamsafar ho tum raah-e-zindagi mein
Kitna hasi zamana aaya tha march lekar
Raah-e-wafa pe thi tum waadon ki torch lekar
Baandha jo ahd-e-ulfat april chal raha tha
Duniya badal rahi thi mausam badal raha tha
Lekin mayi jab aayi jalne laga zamana
Har shaks ki zabaan par tha bas yahi fasana
Duniya ke darr se tumne badali thi jab nigaahein
Tha june ka mahina lab pe thi garm aahein
July mein jo tumne ki baatcheet kuch kam
The aasman pe baadal aur meri aankhein purnam
Maah-e-august mein jab barsaat hoo rahi thi
Bas aasuon ki baarish din raat ho rahi thi
Kuch yaad aa raha hain woh maah tha sitambar
Bheja tha tumne mujhko tark-e-wafa ka letter
Tum gair ho rahi thi october aa gaya tha
Duniya badal chuki thi mausam badal chuka tha
Jab aa gaya november aysi bhi raat aayi
Mujhse tumhein chudane sajj kar baraat aayi
Be-khaif tha december jazbaat mar chuke the
Mausam tha sard usmain armaan bikhar chuke the

🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵

Lekin yeh kya batau ab haal dusra hain
Lekin yeh kya batau ab haal dusra hain
Lekin yeh kya batau ab haal dusra hain
Lekin yeh kya batau ab haal dusra hain

🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵

Are woh saal dusra tha yeh saal dusra hain
Woh saal dusra tha yeh saal dusra hain
Woh saal dusra tha yeh saal dusra hain

🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵

Kya karoge tum aakhir
Kya karoge tum aakhir kabr par meri aakar
Thodi der thodi der
Thodi der rolo ge aur bhul jaoge
Thodi der rolo ge aur bhul jaoge
Thodi der rolo ge aur bhul jaoge

🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵

Tum toh thehre pardesi saath kya nibahaoge
Tum toh thehre pardesi saath kya nibahaoge
Subah pehli gaadi se ghar ko laut jaoge
Subah pehli gaadi se ghar ko laut jaoge
Subah pehli gaadi se ghar ko laut jaoge

Translated Version

Lyrics In Hindi


तुम तो ठहरे परदेसी
तुम तो ठहरे परदेसी साथ क्या निभाओगे
तुम तो ठहरे परदेसी साथ क्या निभाओगे
तुम तो ठहरे परदेसी साथ क्या निभाओगे


🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵


तुम तो ठहरे परदेसी साथ क्या निभाओगे
तुम तो ठहरे परदेसी साथ क्या निभाओगे
तुम तो ठहरे परदेसी साथ क्या निभाओगे
सुबह पहली
सुबह पहली
सुबह पहली गाड़ी से घर को लौट जाओगे
सुबह पहली गाड़ी से घर को लौट जाओगे
तुम तो ठहरे परदेसी साथ क्या निभाओगे


🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵


जब तुम्हें अकेले में मेरी याद आएगी
जब तुम्हें अकेले में मेरी याद आएगी


🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵


खिंचे खिंचे हुए रहते हो क्यों
खिंचे खिंचे हुए रहते हो ध्यान किसका है
ज़रा बताओ तो ये इम्तिहान किसका है
हमें भुला दो मगर ये तो याद ही होगा
हमें भुला दो मगर ये तो याद ही होगा
नई सड़क पे पुराना मकान किसका है


🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵


जब तुम्हें अकेले में मेरी याद आएगी
जब तुम्हें अकेले में मेरी याद आएगी
आँसुओं की
आँसुओं की
आँसुओं की बारिश में तुम भी भीग जाओगे
आँसुओं की बारिश में तुम भी भीग जाओगे
तुम तो ठहरे परदेसी साथ क्या निभाओगे


🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵


ग़म की धूप में दिल की हसरतें ना जल जाए
ग़म की धूप में दिल की हसरतें ना जल जाए


🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵


तुझको ऐ तुझको देखेंगे सितारे तो ज़िया मांगेंगे
तुझको देखेंगे सितारे तो ज़िया मांगेंगे
और प्यासे तेरी जुल्फों से घटा मांगेंगे
अपने कांधे से दुपट्टा ना सरकने देना
वरना बूढ़े भी जवानी की दुआ मांगेंगे
ईमान से


🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵


ग़म की धूप में दिल की हसरतें न जल जाएं
ग़म की धूप में दिल की हसरतें न जल जाएं
केशुओ के
केशुओ के
केशुओ के साए में कब हमें सुलाओगे
केशुओ के साए में कब हमें सुलाओगे
तुम तो ठहरे परदेसी साथ क्या निभाओगे


🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵


मुझको क़त्ल कर डालो शौक़ से मगर सोचो
मुझको क़त्ल कर डालो शौक़ से मगर सोचो


🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵


इस शहर-ए-ना-मुराद की इज़्ज़त करेगा कौन
अरे हम भी चले गए तो मुहब्बत करेगा कौन
इस घर की देखभाल को वीरानियां तो हों
इस घर की देखभाल को वीरानियां तो हों
जाले हटा दिये तो हिफ़ाज़त करेगा कौन


🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵


मुझको क़त्ल कर डालो शौक़ से मगर सोचो
मुझको क़त्ल कर डालो शौक़ से मगर सोचो
मेरे बाद
मेरे बाद
मेरे बाद तुम किस पर ये बिजलियां गिराओगे
मेरे बाद तुम किस पर ये बिजलियां गिराओगे
तुम तो ठहरे परदेसी साथ क्या निभाओगे


🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵


यूं तो ज़िंदगी अपनी मय-कदा में गुज़री है
यूं तो ज़िंदगी अपनी मय-कदा में गुज़री है


🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵


अश्क़ों में हुस्न-ओ-रंग समोता रहा हूँ मैं
अश्क़ों में हुस्न-ओ-रंग समोता रहा हूँ मैं
आंचल किसी का थाम के रोता रहा हूँ मैं
निखरा है जा के अब कहीं चेहरा शऊर का
निखरा है जा के अब कहीं चेहरा शऊर का
बरसों इसे शराब से धोता रहा हूँ मैं


यूं तो ज़िंदगी अपनी मय-कदा में गुज़री है


बहकी हुई बहार ने पीना सिखा दिया
बदमस्त बर्ग-ओ-बार ने पीना सीखा दिया
पीता हूँ इस गरज़ से के जीना है चार दिन
पीता हूँ इस गरज़ से के जीना है चार दिन
मरने के इंतज़ार ने पीना सीखा दिया


🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵


यूं तो ज़िंदगी अपनी मय-कदा में गुज़री है
यूं तो ज़िंदगी अपनी मय-कदा में गुज़री है
इन नशीली
इन नशीली
इन नशीली आँखों से कब हमें पिलाओगे
इन नशीली आँखों से कब हमें पिलाओगे
तुम तो ठहरे परदेसी साथ क्या निभाओगे


🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵


क्या करोगे तुम आखिर कब्र पर मेरी आकर
क्या करोगे तुम आखिर कब्र पर मेरी आकर


🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵


क्या करोगे तुम आखिर कब्र पर मेरी आकर
क्योंकि जब तुमसे इत्तेफ़ाकन
जब तुमसे इत्तेफ़ाकन मेरी नज़र मिली थी
अब याद आ रहा है शायद वो जनवरी थी
तुम यूं मिलीं दुबारा फिर माह-ए-फ़रवरी में
जैसे कि हमसफ़र हो तुम राह-ए-ज़िंदगी में
कितना हसीं ज़माना आया था मार्च लेकर
राह-ए-वफ़ा पे थीं तुम वादों की टॉर्च लेकर
बाँधा जो अहद-ए-उल्फ़त अप्रैल चल रहा था
दुनिया बदल रही थी मौसम बदल रहा था
लेकिन मई जब आई जलने लगा ज़माना
हर शख्स की ज़ुबां पर था बस यही फ़साना
दुनिया के डर से तुमने बदली थीं जब निगाहें
था जून का महीना लब पे थीं गर्म आहें
जुलाई में जो तुमने की बातचीत कुछ कम
थे आसमां पे बादल और मेरी आँखें पुरनम
माह-ए-अगस्त में जब बरसात हो रही थी
बस आँसुओं की बारिश दिन रात हो रही थी
कुछ याद आ रहा है वो माह था सितम्बर
भेजा था तुमने मुझको तर्क़-ए-वफ़ा का लैटर
तुम गैर हो रही थीं अक्टूबर आ गया था
दुनिया बदल चुकी थी मौसम बदल चुका था
जब आ गया नवम्बर ऐसी भी रात आई
मुझसे तुम्हें छुड़ाने सज कर बारात आई
बे-क़ैफ़ था दिसम्बर जज़्बात मर चुके थे
मौसम था सर्द उसमें अरमां बिखर चुके थे


🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵


लेकिन ये क्या बताऊं अब हाल दूसरा है
लेकिन ये क्या बताऊं अब हाल दूसरा है
लेकिन ये क्या बताऊं अब हाल दूसरा है
लेकिन ये क्या बताऊं अब हाल दूसरा है


🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵


अरे वो साल दूसरा था ये साल दूसरा है
वो साल दूसरा था ये साल दूसरा है
वो साल दूसरा था ये साल दूसरा है


🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵


क्या करोगे तुम आखिर
क्या करोगे तुम आखिर कब्र पर मेरी आकर
थोड़ी देर
थोड़ी देर
थोड़ी देर रो लोगे और भूल जाओगे
थोड़ी देर रो लोगे और भूल जाओगे
थोड़ी देर रो लोगे और भूल जाओगे


🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵🎵


तुम तो ठहरे परदेसी साथ क्या निभाओगे
तुम तो ठहरे परदेसी साथ क्या निभाओगे
सुबह पहली गाड़ी से घर को लौट जाओगे
सुबह पहली गाड़ी से घर को लौट जाओगे
सुबह पहली गाड़ी से घर को लौट जाओगे


=========================================


Song Credits & Copyright Details:


गाना / Title : Tum To Thehre Pardesi Sath Kya Nibhaoge
चित्रपट / Film / Album : Tum To Thehre Pardesi Sath Kya Nibhaoge
संगीतकार / Music Director : Mohd. Shafi Niyazi
गीतकार / Lyricist : Zaheer Aalam
गायक / Singer(s) : Altaf Raja
जारी तिथि / Released Date : 1 January 1997
कलाकार / Cast : Altaf Raja
लेबल / Label : Venus
निदेशक / Director : Mohd. Shafi Niyazi
निर्माता / Producer : Champak Jain


Added by

Author

SHARE

Your email address will not be published.

VIDEO