यहाँ आपको Top 10 Morning bhajans Lyrics बेहतरीन शुभ प्रभात भजन लिरिक्स मिलेंग। यह Top 10 Morning bhajans Lyrics शुभ प्रभात भजन लिरिक्स सबसे ज्यादा लोकप्रिय तथा सबसे ज्यादा सुने जाने वाले भजन है। हम उम्मीद करते हैं आपको यह Top 10 Morning bhajans Lyrics शुभ प्रभात भजन लिरिक्स पसंद आएंगे।

  1. Itni Shakti Hume Dena Data
  2. Tu Pyaar Ka Sagar Hai
  3. Sancha Naam Tera
  4. Tu Aasha Vishvas Humare
  5. Ishwar Satya Hai Satya Hi Shiv Hai
  6. Humko Mann Ki Shakti Dena
  7. Ae Maalik Tere Bande Hum
  8. Allah Teru Naam
  9. Jaise Suraj Garmi Se
  10. Jyot Se Jyot

1. Itni Shakti Hume Dena Data इतनी शक्ति हमें देना दाता

इतनी शक्ति हमें देना दाता
मन का विश्वास कमजोर हो ना
इतनी शक्ति हमें देना दाता
मन का विश्वास कमजोर हो ना
हम चलें नेक रस्ते पे
हमसे भूलकर भी कोई भूल हो ना

इतनी शक्ति हमें देना दाता
मन का विश्वास कमजोर हो ना
हम चलें नेक रस्ते पे
हमसे भूलकर भी कोई भूल हो ना

इतनी शक्ति हमें देना दाता
मन का विश्वास कमजोर हो ना..

दूर अज्ञान के हो अँधेरे
तू हमें ज्ञान की रौशनी दे
हम बुराई से बचके रहें हम
जितनी भी दे भली जिन्दगी दे
बैर हो ना किसी का किसी से
भावना मन में बदले की हो ना

हम चलें नेक रस्ते पे
हमसे भूलकर भी कोई भूल हो ना
इतनी शक्ति हमें देना दाता
मन का विश्वास कमजोर हो ना..

हम न सोचें हमें क्या मिला है
हम ये सोचें किया क्या है अर्पण
फूल खुशियों के बांटे सभी को
सबका जीवन ही बन जाय मधुबन
ओ अपनी करुणा का जल तू बहा के
करदे पावन हर एक मन का कोना

हम चलें नेक रस्ते पे
हमसे भूलकर भी कोई भूल हो ना
इतनी शक्ति हमें देना दाता
मन का विश्वास कमजोर हो ना..

2. Tu Pyaar Ka Sagar Hai तू प्यार का सागर है

तू प्यार का सागर है
तेरी इक बूँद के प्यासे हम
लौटा जो दिया तुमने, चले जायेंगे जहाँ से हम
तू प्यार का सागर है …

घायल मन का, पागल पंछी उड़ने को बेक़रार
पंख हैं कोमल, आँख है धुँधली, जाना है सागर पार
जाना है सागर पार
अब तू हि इसे समझा, राह भूले थे कहान से हम
तू प्यार का सागर है …

इधर झूमती गाये ज़िंदगी, उधर है मौत खड़ी
कोई क्या जाने कहाँ है सीमा, उलझन आन पड़ी
उलझन आन पड़ी
कानों में ज़रा कह दे, कि आये कौन दिशा से हम
तू प्यार का सागर है …

3. Sancha Naam Tera साँचा नाम तेरा

आ आ आ, हूँ ऊँ, आ आ
साँचा नाम तेरा
हो, साँचा नाम तेरा
तू श्याम मेरा, साँचा नाम तेरा, तू श्याम मेरा
सगरा जगत है झूठा साथी
टूटे दीपक बुझ जाये बाती
हर रंग में तू संग में है
चाहे साँझ हो चाहे सवेरा
साँचा नाम तेरा, तू श्याम मेरा, साँचा नाम तेरा

मैं तुझ में खोई रे
दूजा न कोई रे
आ, जागी या सोई रे
तू एक अपना जीवन सपना
सगरा जगत है झूठा साथी
टूटे दीपक बुझ जाये बाती
मैं ने बिगाड़ा हर काम अपना
तूने सँवारा हर काम मेरा
साँचा नाम तेरा, तू श्याम मेरा, साँचा नाम तेरा

दुःख सुख की धारा
तू है किनारा
हूँ मनमोहन प्यारा
सब का खेवैया कृष्ण कंहैया
सगरा जगत है झूठा साथी
टूटे दीपक बुझ जाये बाती
तोड़ के ये मन मंदिर बना दूँ
हो मन के मंदिर में धाम तेरा
साँचा नाम तेरा, तू श्याम मेरा, साँचा नाम तेरा

4. Tu Aasha Vishvas Humare तुम आशा विश्वास हमारे

काम ना जाने, धाम ना जाने
जाने ना सेवा पूजा
जाने बस इतना अजान
हम एक बिना नही दूजा
तुम आशा विश्वास हमारे..
तुम धरती आकाश हमारे रामा …

तात मात तुम बंधु भ्रात हो
दिवस रात्रि संध्या प्रभात हो
दीपक सूर्य चन्द्र तारक में
तुम ही ज्योति प्रकाश हमारे रामा …

साँसों में तुम आते जाते
एक तुम्हीं से है सब नाते
जीवन वन के हर पतझड़ में
एक तुम्हीं मधुमास हमारे रामा …

तुम ही सब में है तुम में सब
तुम ही भव हो हो तुम ही रब
अश्रु हमारी आँखों में तुम
तुम होठो पर हास हमारे रामा …
आम ना जाने, धाम ना जाने
जाने ना सेवा पूजा
जाने बस इतना अज़ान हम
एक बिना नहीं दूजा
तुम आशा विश्वास हमारे
तुम धरती आकाश हमारे, रामा
तातमात तुम, बन्धु भ्रात हो
दिवस रात्रि, संध्या प्रभात हो
दीपक सूर्य चन्द्र तारक में रामा
तुम ही ज्योति प्रकाश हमारे, रामा
तुम आशा विश्वास हमारे
तुम धरती आकाश हमारे, रामा
साँसों में तुम आते जाते
एक तुम ही से हैं सब नाते
जीवनवान के हर पतज़र में रामा
एक तुम ही मधुमास हमारे, रामा
तुम आशा विश्वास हमारे
तुम धरती आकाश हमारे, रामा
तुम ही सब में हैं तुम में सब
तुम ही भाव हो, हो तुम ही रब
अश्रु हमारी आँखों में तुम, रामा
तुम होतों पर हास हमारे, रामा
तुम आशा विश्वास हमारे
तुम धरती आकाश हमारे, रामा
तातमात तुम, बन्धु भ्रात हो
दिवस रात्रि, संध्या प्रभात हो
दीपक सूर्य चन्द्र तारक में रामा
तुम ही ज्योति प्रकाश हमारे, रामा
तुम आशा विश्वास हमारे
तुम धरती आकाश हमारे, रामा

5. Ishwar Satya Hai Satya Hi Shiv Hai इश्वर सत्य है सत्य ही शिव है

इश्वर सत्य है
सत्य ही शिव है
शिव ही सुन्दर है
जागो उठ कर देखो
जीवन ज्योत उजागर है

सत्यम शिवम सुन्दरम – २
इश्वर सत्य है
सत्य ही शिव है
शिव ही सुन्दर है
सत्यम शिवम सुन्दरम – २

राम अवध में काशी में शिव कांहा व्ऱिन्दवन में
दया करो प्रभू देखूँ इन को – २
हर घर के आँगन में
राधा मोहन शरणम
सत्यम शिवम सुन्दरम – २

एक सूर्या है एक गगन है एक ही धरती माता
दया करो प्रभू एक बनें सब
सब का एक से नाता
राधा मोहन शरणम
सत्यम शिवम सुन्दरम – २

6. Humko Mann Ki Shakti Dena हमको मन की शक्ति देना

आ… आ.. आ…

हमको मन की शक्ति देना
मन विजय करें
दूसरों की जय से पहले
खुद को जय करें

हमको मन की शक्ति देना
मन विजय करें
दूसरों की जय से पहले
खुद को जय करें
हमको मन की शक्ति देना

भेदभाव
भेदभाव अपने दिल से
साफ़ कर सकें
(भेदभाव अपने दिल से
साफ़ कर सकें)

दोस्तों से भूल हो तो
माफ़ कर सकें
(दोस्तों से भूल हो तो
माफ़ कर सकें)

झूठ से बचे रहें
सच का दम भरें
(झूठ से बचे रहें
सच का दम भरें)
दूसरों की जय से पहले
खुद को जय करें

हमको मन की शक्ति देना
मन विजय करें
दूसरों की जय से पहले
खुद को जय करें
हमको मन की शक्ति देना

मुश्किलें पड़ें तो हम पे
इतना कर्म कर
(मुश्किलें पड़ें तो हम पे
इतना कर्म कर)
साथ दें तो धर्म का
चलें तो धर्म पर
(साथ दें तो धर्म का
चलें तो धर्म पर)

खुद पे हौसला रहे
बदी से ना डरें
(खुद पे हौसला रहे
बदी से ना डरें)
दूसरों की जय से पहले
खुद को जय करें

हमको मन की शक्ति देना
मन विजय करें
दूसरों की जय से पहले
खुद को जय करें
हमको मन की शक्ति देना

7. Ae Maalik Tere Bande Hum ऐ मालिक तेरे बंदे हम

ऐ मालिक तेरे बंदे हम
ऐसे हो हमारे करम
नेकी पर चलें
और बदी से टलें
ताकि हंसते हुये निकले दम

जब ज़ुल्मों का हो सामना
तब तू ही हमें थामना
वो बुराई करें
हम भलाई भरें
नहीं बदले की हो कामना
बढ़ उठे प्यार का हर कदम
और मिटे बैर का ये भरम
नेकी पर चलें …

ये अंधेरा घना छा रहा
तेरा इनसान घबरा रहा
हो रहा बेखबर
कुछ न आता नज़र
सुख का सूरज छिपा जा रहा
है तेरी रोशनी में वो दम
जो अमावस को कर दे पूनम
नेकी पर चलें …

बड़ा कमज़ोर है आदमी
अभी लाखों हैं इसमें कमीं
पर तू जो खड़ा
है दयालू बड़ा
तेरी कृपा से धरती थमी
दिया तूने जो हमको जनम
तू ही झेलेगा हम सबके ग़म
नेकी पर चलें …

8. Allah Teru Naam अल्लाह तेरो नाम

अल्लाह तेरो नाम
ईश्वर तेरो नाम
अल्लाह तेरो नाम
ईश्वर तेरो नाम — कोरस
सबको सन्मति दे भगवान
सबको सन्मति दे भगवान — कोरस
अल्लाह तेरो नाम — कोरस

आ…

माँगों का सिन्दूर ना छूटे
माँगों का
सिन्दूर ना छूटे — कोरस
माँ बहनो की आस ना टूटे
माँ बहनो की — कोरस
आस ना टूटे
देह बिना, दाता, देह बिना — कोरस
भटके ना प्राण
सबको सन्मति दे भगवान — कोरस
अल्लाह तेरो नाम — कोरस

ओ सारे जग के रखवाले
ओ सारे
जग के रखवाले — कोरस
निर्बल को बल देने वाले
निर्बल को बल — कोरस
देने वाले
बलवानो को, ओ बलवानो को — कोरस
देदे ज्ञान

सबको सन्मति दे भगवान — कोरस
अल्लाह तेरो नाम — कोरस
ईश्वर तेरो नाम
अल्लाह तेरो नाम — कोरस
ईश्वर तेरो नाम
अल्लाह तेरो नाम — कोरस

9. Jaise Suraj Garmi Se जैसे सूरज की गर्मी से

जैसे सूरज की गर्मी से जलते हुए तन को,
मिल जाए तरुवर की छाया,
ऐसा ही सुख मेरे मन को मिला है,
मैं जबसे शरण तेरी आया…मेरे राम ।

भटका हुआ मेरा मन था कोई,
मिल न रहा था सहारा,
लहरों से लड़ती हुयी नाव को,
जैसे मिल ना रहा हो किनारा,
मिल न रहा हो किनारा ।
उस लड़खड़ाती हुई नाव को जो,
किसी ने किनारा दिखाया,
ऐसा ही सुख मेरे मन को मिला है,
मैं जबसे शरण तेरी आया…मेरे राम ।
जैसे सूरज की गर्मी से जलते हुए तन को,
मिल जाए तरुवर की छाया…

शीतल बने आग चंदन के जैसी,
राघव कृपा हो जो तेरी,
उजियाली पूनम की हो जाए राते,
जो थी अमावस अंधेरी,
जो थी अमावस अंधेरी ।
युग युग से प्यासी मरुभूमि ने,
जैसे सावन का संदेस पाया,
ऐसा ही सुख मेरे मन को मिला है,
मैं जबसे शरण तेरी आया…मेरे राम ।
जैसे सूरज की गर्मी से जलते हुए तन को,
मिल जाए तरुवर की छाया…

जिस राह की मंज़िल तेरा मिलान हो,
उस पर कदम मैं बढ़ाऊ,
फूलों में खरो में पतझड़ बहारों में,
मैं न कभी डगमगाउ ।
पानी के प्यासे को तक़दीर ने,
जैसे जी भर के अमृत पिलाया,
ऐसा ही सुख मेरे मन को मिला है,
मैं जबसे शरण तेरी आया…मेरे राम ।
जैसे सूरज की गर्मी से जलते हुए तन को,
मिल जाए तरुवर की छाया…

10. Jyot Se Jyot ज्योत से ज्योत

ज्योत से ज्योत जगाते चलो, प्रेम की गंगा बहाते चलो
राह में आए जो दीन दुखी, सबको गले से लगाते चलो

जिसका न कोई संगी साथी ईश्वर है रखवाला
जो निर्धन है जो निर्बल है वह है प्रभू का प्यारा
प्यार के मोती लुटाते चलो, प्रेम की गंगा…

आशा टूटी ममता रूठी छूट गया है किनारा
बंद करो मत द्वार दया का दे दो कुछ तो सहारा
दीप दया का जलाते चलो, प्रेम की गंगा…

छाई है छाओं और अंधेरा भटक गई हैं दिशाएं
मानव बन बैठा है दानव किसको व्यथा सुनाएं
धरती को स्वर्ग बनाते चलो, प्रेम की गंगा…

ज्योत से ज्योत जगाते चलो प्रेम की गंगा बहाते चलो
राह में आए जो दीन दुखी सब को गले से लगाते चलो
प्रेम की गंगा बहाते चलो …

कौन है ऊँचा कौन है नीचा सब में वो ही समाया
भेद भाव के झूठे भरम में ये मानव भरमाया
धर्म ध्वजा फहराते चलो, प्रेम की गंगा …

सारे जग के कण कण में है दिव्य अमर इक आत्मा
एक ब्रह्म है एक सत्य है एक ही है परमात्मा
प्राणों से प्राण मिलाते चलो, प्रेम की गंगा …

Added by

admin

SHARE

Your email address will not be published.